लिंग तनाव में परेशानी – मदद के लिए कहाँ जाएँ?

By: Tipsdekho

2018-10

“जब हम बच्चे थे, तब हम सड़क के आजू-बाजु वाले सेक्स विज्ञापनों को देखकर मज़ाक बनाया करते थे,” अभिनव का कहना है। “गुप्तांग की परेशानी? मदद के लिए फोन करिए!” “लेकिन जब मुझे खुद सेक्स करने में परेशानी होने लगी तब मुझे नहीं पता था की मैं मदद के लिए कहाँ जाऊ?
मैं उसे खुश नहीं कर पाया

तो 6 महीने पहले तक, जब मेरी गर्ल फ्रेंड थी, तब हम काफी बार सेक्स करते थे। मेरे दोस्त और साथ में काम करने वाले मुझे इर्ष्या की नज़र से देखते थे। लेकिन उन्हें क्या पता था की मेरी सेक्स लाइफ को नज़र लग गयी थी।

ऐसा भी समय था जब मुझे लगा की मैं ऐसा वीर्यवान मर्द था जो की मेरी गर्ल फ्रेंड चाहती थी, और मैं इस बारे में सोचकर इतना तनाव ले लेता था की मेरा लिंग खड़ा ही नहीं हो पाता था। मुझे इस बात की भी चिंता हो गयी थी की क्यूंकि सिर्फ अपनी इसी गर्ल फ्रेंड के साथ सेक्स कर रहा था, अगर मैं उसे संतुष्ट ना कर पाया तो?

असमंजस

दो महीने पहले मेरा मेरी गर्ल फ्रेंड से ब्रेक-अप हो गया। और मैं यह स्वीकारता हूँ की मेरा यह प्रेशर की ‘मैं सेक्स के बारे में सब जानता हूँ’ इस ब्रेक-अप का अहम् कारण था। मैं अभी भी अपनी उस गर्ल फ्रेंड के बारे में सोचकर भावुक हो जाता हूँ. लेकिन सबसे ज़्यादा डरा देने वाली बात थी की शायद मुझमे कुछ कमी है – या शायद मेरे लिंग में कोई परेशानी है। आखिर मैं ही क्यूँ ठीक से लिंग का तनाव और लिंग प्रेवेश नहीं कर पाया, जो की शायद सभी कर पाते हैं।

मैं इस बारे में किसी से बात करना चाहता था, लेकिन कौन? मैं डॉक्टर से मिलना चाहता था और अपना चेक-अप करना चाहता था, लेकिन इन सब चीज़ों को लेकर भी मैं असमंजस में था। अगर सच में मुझमे कमी हुई तो मैं कैसे इसे झेल पाउँगा? और गर मैं डॉक्टर के पास नहीं गया तो मैं कभी भी शायद मुझे पता ही नहीं चलेगा की आखिर मेरी परेशनी है क्या।

डर जाना?
एक और परेशानी यह थी की मैं ऐसे किसी डॉक्टर को  नहीं जानता था जो की पुरुष गुप्तांग विशेषज्ञ हो। मैं ‘गूगल’ पर भी बहुत ढूंढा और फिर एक विशेषज्ञ का नंबर मिला, जो की मेरे घर से ज़्यादा दूर भी नहीं था। मैंने पूरी हिम्मत जुटाई और उस डॉक्टर से मिलने गया। जब मैं वेटिंग रूम में घुस तो वहां बैठे आदमियों को देखकर मैं यह सोचने लगा की क्या इन सब को भी वही परेशानी है जो मुझे है? फिर मैं यह सोचने लगा की कहीं कोई जान-पहचान वाला तो मुझे यहाँ नहीं देख लेगा? क्या मुझे यहाँ से वापस चले जाना चाहिए? खैर, मैंने डॉक्टर से अपॉइंटमेंट के लिए 1000 रूपये खर्च किये थे और मेरे अन्दर के बैंकर ने मुझे ये रुपया यू ही बर्बाद ना करने दिया।

जल्दी
डॉक्टर से मिलते ही मैं संक्षेप्त में और हिचकिचाते हुए अपनी परेशानी बताई की मुझे कैसे लिंग तनाव में परेशानी आती है जब मैं अपनी गर्ल फ्रेंड के साथ सेक्स करना चाहता हूँ। वो डॉक्टर भी जल्दी में था और उसने मुझे पूरी तरह मेरे डर के बारे में बात करने का मौका ही नहीं दिया। जब मैं बोल रहा था तो वो लिख रहा था और फिर उसने बोल,”तुम बाहर की दूकान से यह 13000 रूपये की दवाई खरीद लो।” और प्रिस्क्रिप्शन देने के लिए उसने मना  कर दिया. मैं दंग रह गया।

मेरे दिमाग का एक हिस्सा मुझे वो दवाई खरीदने के लिए बोल रहा था, लेकिन दूसरा हिसा इतना पैसा खर्च करने से मना कर रहा था। मैं किसी को फोन करके सलाह लेना चाहता था और पूछना  था की क्या यह दवाई सही है – क्या मुझे यह दवाई खरीदनी चाहिए? लेकिन मैं अपने दोस्तों को कैसे बताऊंगा की यह 13000 की दवाई आखिर है क्या? मैं घर गया अपने आपको यह समझते हुए की मुझे कोई बीमारी और परेशानी नहीं। वो डॉक्टर ही पागल था।

लम्बी बात
घर पर मैं इन्टरनेट पर रोज़ की तरह बैठ गया। और फिर फेसबुक पर मैंने देखा की मेरा एक दोस्त प्रोस्टेट ग्रंथि कैंसर के बारे में जानकारी दे रहा था। उसने जो वेबसाइट का नाम दिया था मैंने वो देखि और मुझे उससे ‘यूरोलॉजी’ के बारे में पता चला, और यह भी की वो मेरे गुप्तांगों को देखकर बता सकते ही की मेरी परेशानी क्या है।

मैं डरा हुआ था लेकिन मैं ‘गूगल’ पर यूरोलोजिस्ट ढूंढा। और मुझे एक बुढे यूरोलोजिस्ट का पता मिला जिसने मेरी पूरी बात अच्छे से सुनी, मेरी पूरी तरह जांच करी और मुझे पूरा समय दिया। उसने मुझे कहा की मैं पूरी तरह ठीक हूँ और मुझे किसी टेस्ट की ज़रूरत नहीं। परेशानी मेरे लिंग की नहीं मेरे दिमाग की है – उसने कहा। मैं सेक्स अच्छा करूँगा या नहीं… अपनी गर्ल फ्रेंड को संतुष्ट कर पोंगा या नहीं…इन सब चीज़ों का सोचकर मैं इतना प्रेशर ले लेता था की मेरे लिंग के तनाव में परेशानी आ जाती थी – इसे ‘परफॉरमेंस प्रेशर’ कहते हैं। उसके बाद हमने लड़कियों के बारे में, अन्य लिंग परेशानियों के बारे में, और वापस उनसे मिलने आने के बारे में बहुत बातें करी।

मैं आशा करता हूँ की हर एक परेशानी से जूझने वाले को ऐसा डॉक्टर ज़रूर मिले। और अब मुझे तो पता ही है की मेरी गुप्तांग परेशानियों के लिए मुझे किसके पास जाना चाहिए।
यह लेख पहली बार 3 मई, 2013 को प्रकाशित हुआ था

*गोपनीयता बनाये रखने के लिए नाम बदल दिए गये हैं और तस्वीर में मॉडल का इस्तेमाल किया गया है।

कोई यौन स्वास्थ्य परेशानी? हमारे फेसबुक पेज पर लव मैटर्स (एलएम) के साथ उसे साझा करें। यदि आपके पास कोई विशिष्ट प्रश्न है, तो कृपया हमारे चर्चा मंच पर एलएम विशेषज्ञों से पूछें।

हमें अपनी प्यार, सेक्स और रिश्तों से जुडी कहानियां बताइए। ईमेल करिए लव मैटर्स को।

‘मेरी कहानी’ श्रंखला के अन्य लेख

लिंग तनाव में परेशानी पर अधिक जानकारी

अगर आपको भी अभिनव जैसी परेशानी है तो आप हमारे पार्टनर  Dr Manish Call us 08755818383 से संपर्क कर सकते हैं, जो की आपको सही और गुप्त जानकारी देने में मदद करेंगे।
main use khush nahin kar paaya

to 6 maheene pahale tak, jab meree garl phrend thee, tab ham kaaphee baar seks karate the. mere dost aur saath mein kaam karane vaale mujhe irshya kee nazar se dekhate the. lekin unhen kya pata tha kee meree seks laiph ko nazar lag gayee thee.

aisa bhee samay tha jab mujhe laga kee main aisa veeryavaan mard tha jo kee meree garl phrend chaahatee thee, aur main is baare mein sochakar itana tanaav le leta tha kee mera ling khada hee nahin ho paata tha. mujhe is baat kee bhee chinta ho gayee thee kee kyoonki sirph apanee isee garl phrend ke saath seks kar raha tha, agar main use santusht na kar paaya to?

asamanjas

do maheene pahale mera meree garl phrend se brek-ap ho gaya. aur main yah sveekaarata hoon kee mera yah preshar kee main seks ke baare mein sab jaanata hoon is brek-ap ka aham kaaran tha. main abhee bhee apanee us garl phrend ke baare mein sochakar bhaavuk ho jaata hoon. lekin sabase zyaada dara dene vaalee baat thee kee shaayad mujhame kuchh kamee hai – ya shaayad mere ling mein koee pareshaanee hai. aakhir main hee kyoon theek se ling ka tanaav aur ling prevesh nahin kar paaya, jo kee shaayad sabhee kar paate hain.

main is baare mein kisee se baat karana chaahata tha, lekin kaun? main doktar se milana chaahata tha aur apana chek-ap karana chaahata tha, lekin in sab cheezon ko lekar bhee main asamanjas mein tha. agar sach mein mujhame kamee huee to main kaise ise jhel paunga? aur gar main doktar ke paas nahin gaya to main kabhee bhee shaayad mujhe pata hee nahin chalega kee aakhir meree pareshanee hai kya.

dar jaana?

ek aur pareshaanee yah thee kee main aise kisee doktar ko nahin jaanata tha jo kee purush guptaang visheshagy ho. main googal par bhee bahut dhoondha aur phir ek visheshagy ka nambar mila, jo kee mere ghar se zyaada door bhee nahin tha. mainne pooree himmat jutaee aur us doktar se milane gaya. jab main veting room mein ghus to vahaan baithe aadamiyon ko dekhakar main yah sochane laga kee kya in sab ko bhee vahee pareshaanee hai jo mujhe hai? phir main yah sochane laga kee kaheen koee jaan-pahachaan vaala to mujhe yahaan nahin dekh lega? kya mujhe yahaan se vaapas chale jaana chaahie? khair, mainne doktar se apointament ke lie 1000 roopaye kharch kiye the aur mere andar ke bainkar ne mujhe ye rupaya yoo hee barbaad na karane diya.

jaldee

doktar se milate hee main sankshept mein aur hichakichaate hue apanee pareshaanee bataee kee mujhe kaise ling tanaav mein pareshaanee aatee hai jab main apanee garl phrend ke saath seks karana chaahata hoon. vo doktar bhee jaldee mein tha aur usane mujhe pooree tarah mere dar ke baare mein baat karane ka mauka hee nahin diya. jab main bol raha tha to vo likh raha tha aur phir usane bol,”tum baahar kee dookaan se yah 13000 roopaye kee davaee khareed lo.” aur priskripshan dene ke lie usane mana kar diya. main dang rah gaya.

mere dimaag ka ek hissa mujhe vo davaee khareedane ke lie bol raha tha, lekin doosara hisa itana paisa kharch karane se mana kar raha tha. main kisee ko phon karake salaah lena chaahata tha aur poochhana tha kee kya yah davaee sahee hai – kya mujhe yah davaee khareedanee chaahie? lekin main apane doston ko kaise bataoonga kee yah 13000 kee davaee aakhir hai kya? main ghar gaya apane aapako yah samajhate hue kee mujhe koee beemaaree aur pareshaanee nahin. vo doktar hee paagal tha.

lambee baat

ghar par main intaranet par roz kee tarah baith gaya. aur phir phesabuk par mainne dekha kee mera ek dost prostet granthi kainsar ke baare mein jaanakaaree de raha tha. usane jo vebasait ka naam diya tha mainne vo dekhi aur mujhe usase yoorolojee ke baare mein pata chala, aur yah bhee kee vo mere guptaangon ko dekhakar bata sakate hee kee meree pareshaanee kya hai.

main dara hua tha lekin main googal par yoorolojist dhoondha. aur mujhe ek budhe yoorolojist ka pata mila jisane meree pooree baat achchhe se sunee, meree pooree tarah jaanch karee aur mujhe poora samay diya. usane mujhe kaha kee main pooree tarah theek hoon aur mujhe kisee test kee zaroorat nahin. pareshaanee mere ling kee nahin mere dimaag kee hai – usane kaha. main seks achchha karoonga ya nahin… apanee garl phrend ko santusht kar ponga ya nahin…in sab cheezon ka sochakar main itana preshar le leta tha kee mere ling ke tanaav mein pareshaanee aa jaatee thee – ise paraphoramens preshar kahate hain. usake baad hamane ladakiyon ke baare mein, any ling pareshaaniyon ke baare mein, aur vaapas unase milane aane ke baare mein bahut baaten karee.
main aasha karata hoon kee har ek pareshaanee se joojhane vaale ko aisa doktar zaroor mile. aur ab mujhe to pata hee hai kee meree guptaang pareshaaniyon ke lie mujhe kisake paas jaana chaahie.

yah lekh pahalee baar 3 maee, 2013 ko prakaashit hua tha

*gopaneeyata banaaye rakhane ke lie naam badal die gaye hain aur tasveer mein modal ka istemaal kiya gaya hai.
koee yaun svaasthy pareshaanee? hamaare phesabuk pej par lav maitars (elem) ke saath use saajha karen. yadi aapake paas koee vishisht prashn hai, to krpaya hamaare charcha manch par elem visheshagyon se poochhen.

hamen apanee pyaar, seks aur rishton se judee kahaaniyaan bataie. eemel karie lav maitars ko.
meree kahaanee shrankhala ke any lekh
ling tanaav mein pareshaanee par adhik jaanakaaree

Shear this
View all

Most Popular Video

Most Popular Articles