Mouth Ulcer Treatment In Hindi – मुंह के छाले का इलाज

By: Tipsdekho

2018-08

Mouth Ulcer Treatment In Hindi – मुंह के छाले का इलाज 

माउथ अल्सर एक ऐसी बीमारी है जिसका लक्षण हमें आसानी से नजर आ जाता है. जैसे कि होठों, मसूढ़े और मुंह के किसी अन्य हिस्सों में कोई सफेद घाव का दिखना, मुंह से खून का निकलना या फिर खाते समय मुंह में जलन सा महसूस होना. इन लक्षणों के नजर आते ही तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. इससे फायदा ये होगा कि यदि आप समय से डॉक्टर के पास जाएंगे तो हफ्ते-दस दिन में ठीक हो जाएंगे. यदि आप समय से इसका इलाज नहीं कराते हैं तो कभी-कभी ये कैंसर का कारण भी बन सकता है. मुंह में होने वाले अल्सर के कुछ उपचार हम आपको बता देते हैं जिससे आप राहत महसूस करेंगे.

तीन प्रकार का होता है माउथ अल्सर

  1. गंभीर अल्सर
    जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है कि आमतौर से होने वाले अल्सर से आकार में बड़ा होता  है. आपको बता दें कि ये गंभीर अल्सर 10 में से 1 व्यक्ति को ही होता है. लेकिन जब आपको पता चले कि आपको गंभीर अल्सर है तो तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.
    2. सामान्य अल्सर
    अल्सर से पीड़ित होने वाले ज्यादातर लोग सामान्य अल्सर से ही प्रभावित होते हैं. इसके नाम से भी स्पष्ट है कि ये आकर में ज्यादा बड़ा नहीं होता है और लगभग 10 दिन में ठीक भी हो जाता है.
    3. हेरपेटीफॉर्म अल्सर
    हेरपेटीफॉर्म अल्सर का दूसरा नाम पिनप्वाइंट अल्सर भी है. ये लगभग 3 मिमी आकार का होता है. आमतौर पर 10 से 40 वर्ष के आयुवर्ग के बीच होने वाले इस अल्सर से मात्र 10 प्रतिशत लोग ही प्रभावित हैं. ये बच्चों और बूढों में न के बराबर ही होता है.

ये हैं मुख्य लक्षण
1. मुंह में अल्सर होने से खाते और पीते समय बहुत ज्यादा दर्द होता है.
2. व्यवहार में चिडचिड़ापन आने लगता है. 
3. आपको हमेशा लगेगा कि आप थके हुए हैं. 
4. मुंह के घाव में लालपन नजर आने लगता है.

कैसे करें उपचार
1. माउथ अल्सर के मरीजों को को खाने में विटामिन-सी का प्रयोग करना चाहिए. इसके लिए आप दो-तीन गिलास संतरे का जूस प्रतिदिन पिएं. आप टमाटर से भी विटामिन सी प्राप्त कर सकते हैं.
2. जितना हो सके ज्यादा मसालेदार और तले-भुने खाद्य पदार्थों से परहेज करें.
3. ऐसे में आपको ज्यादा से ज्यादा मात्रा में फलों का सेवन करना चाहिए और खूब पानी पीना चाहिए.
4. जितना हो सके हरी सब्जियों का भरपूर सेवन करने से लाभ मिलता है.
5. यदि आप खाना खाते समय खाने में कच्चे प्याज का इस्तेमाल करें तो और बेहतर होगा.
6. माउथ अल्सर के पीड़ितों को दूध से बने खाद्य पदार्थों जैसे कि दही, बटर मिल्क और पनीर आदि इतेमाल में लाना चाहिए.
7. मासाहारी भोजन अम्लीय स्वभाव का होता है इसलिए मुंह के अल्सर पीड़ितों को इसके इस्तेमाल से बचना चाहिए.
8. मुंह की सिकाई करने के लिए आपको दिन में दो से तीन बार तक गरारा करना चाहिए.
9. सबके घरों में आसानी से उपलब्ध तुलसी के कुछ पत्ते चबाने से भी राहत मिलती है.
11. ऐसे पदार्थ जिन्हें खाने से मुंह में जलन होने या दांतों में फंसने की संभावना हो, उसे खाने से बचना चाहिए. जैस आपको अल्सर के ठीक होने तक मदिरा तथा चॉकलेट से दूर रहना चाहिए.
12. अल्सर में जलन कम करने के लिए ग्लिसरीन में हल्दी का पाउडर मिलाकर उससे अल्सर वाली जगह पर धीरे-धीरे मालिश करें. इसके करीब 15-20  मिनट बाद इसे साफ कर लें.
13. एक उपाय ये भी है कि एक कप पानी में एक चम्मच धनिया पाउडर मिलाकर उबाले. इसके बाद जब पानी ठंडा हो जाए तो उससे दिन में दो से तीन बार गरारे करने से भी राहत मिलती है.
14. पानी की कुछ बूंदों में एक चम्मच बेकिंग सोडा के साथ मिलाएं और उसे अल्सर वाली जगह पर दो-तीन बार लगायें और 15 मिनट बाद उसे अच्छे से साफ कर लें.
15. खाना खाने के बाद हर्बल चाय पिने से भी माउथ अल्सर में आराम मिलता है.

कैसे होता है माउथ अल्सर
1. बहुतायत मात्रा में तला-भुना और मसालेदार भोजन करने से.
2. ज्यादा मात्रा में अम्लीय पदार्थों के सेवन से.
3. दांतों की नियमित और उचित तरीके से सफाई नहीं करने से.
4. गाल भीतर से बार-बार कटने से भी इसके संक्रमण को फैलने की आशंका होती है.
5. जिस चीज को खाने से एलर्जी है उसे बार-बार खाने से भी इसके होने की संभावना होती है.
6. जब आपके शरीर में विटामिन बी और आयरन की मात्रा सामान्य से कम होती है.

 

Shear this
View all

Most Popular Video

Most Popular Articles