मोच को ठीक करने के घरेलू उपाय – Home remedies for sprain in Hindi

By: Tipsdekho

2018-06

मोच को ठीक करने के घरेलू उपाय – Home remedies for sprain in Hindi

लोग कभी न कभी मोच के कारण होने वाले दर्द और असुविधा से परेशान होते हैं खासतौर से टखनों में आई मोच (Ankel Sprain) के कारण। घुटनों की मोच सभी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकती है। यह आमतौर पर व्‍यायामकरते समय गलत मुद्रा (poor posture) या अत्‍यधिक वजन उठाने के कारण हो सकती है। इसके अन्‍य कारण मांसपेशीयों की क्षति, मांसपेशियों में असंतुलन आदि भी हो सकते हैं।

खेल खेलते समय या असुविधाजनक सतह पर चलने पर कोई भी व्‍यक्ति इस समस्‍या से ग्रसित हो सकता है। यह आपके पैरों को सूजन या गंभीर दर्द दे सकता है। यदि आप मोच का सही समय में उपचार नहीं करते हैं, तो इससे भविष्‍य में अधिक गंभीर समस्‍याएं हो सकती हैं, उदाहरण के लिए यह दर्द आपको जीवन भर परेशान कर सकता है। इसलिए इस दर्द को कम न समझे और समय पर इसका इलाज कराएं।

  1. मोच का कारण – Moch ke karan in Hindi
    2. मोच आने के लक्षण – Moch ke lakshan in Hindi
    3. मोच को ठीक करने का घरेलू उपाय है बर्फ – Ice Home remedies for fixing sprains in Hindi
  • मोच खाए टखने के उपचार करें हल्दी – Turmeric for Ankle sprains in Hindi
  • पैर में मोच के उपचार के लिए जैतून का तेल – Olive Oil for sprains in Hindi
  • मोच का घरेलू उपाय है सेंधा नमक – Epsom Salt for sprains in Hindi
  • मोच के लिए उपयोगी प्राकृतिक लेप – Natural poultices for sprains in Hindi
  • मोच का घरेलू उपचार करें लहसुन से – Moch Ka Gharelu Upchar Lehsun Se in Hindi
  • मोच के दर्द का इलाज प्‍याज से करें – Onion for sprains in Hindi
  • पैर में मोच से राहत दिलाए एलोवेरा – Aloe Vera for Sprains in Hindi
  • मोच का उपचार करें पत्‍ता गोभी से – Cabbage Treats for Sprains in Hindi
  • मोच ठीक करने के लिए अरंडी के तेल से मालिश – Castor Oil for Sprains in Hindi

मोच का कारण – Moch ke karan in Hindi

आपके हाथ और पैरों में मोच आने की सम्भावना अधिक होती है  क्योंकि आपके हाथ और पैरों के जोड़ मुड़ते हैं। अचानक घुटनों के मुड़ने या घर्षण के कारण घुटने के आसपास अस्थिबंध में खिचाव या तनाव (stretch) हो सकता है। जिसके कारण प्रभावित क्षेत्र में वजन रखने पर आपको दर्द महसूस होता है। मोच आपकी उपास्थि, रक्त वाहिकाओं या कंधे को भी प्रभावित कर सकती है।

आपको यह ध्‍यान रखना चाहिए कि किसी भी उम्र में किसी भी व्‍यक्ति को टखने की समस्‍या से गुजरना पड़ सकता है। चलने, खेलने, असमान सतहों या अपरिपक्‍क जूते पहनने आदि के कारण भी आपके पैरों में मोच आ सकती है।

मोच आने के लक्षण – Moch ke lakshan in Hindi

जब मोच की बात आ‍ती है तो इसके कुछ लक्षण इस प्रकार होते हैं।

  • कोमलता और छूने में दर्द
  • सूजन
  • नीलपड़ना
  • त्‍वचा मलिनकिरण (skin discoloration)
  • आप के पैरों पर वजन रखने में कठिनाई
  • कठोरता या जकड़न (stiffness)

मोच को ठीक करने के घरेलू उपाय – Moch ko theek karne ke upay in hindi

  • मोच खाए टखने के उपचार करें हल्दी – Turmeric for Ankle sprains in Hindi
  • पैर में मोच के उपचार के लिए जैतून का तेल – Olive Oil for sprains in Hindi
  • मोच का घरेलू उपाय है सेंधा नमक – Epsom Salt for sprains in Hindi
  • मोच के लिए उपयोगी प्राकृतिक लेप – Natural poultices for sprains in Hindi
  • मोच का घरेलू उपचार करें लहसुन से – Moch Ka Gharelu Upchar Lehsun Se in Hindi
  • मोच के दर्द का इलाज प्‍याज से करें – Onion for sprains in Hindi
  • पैर में मोच से राहत दिलाए एलोवेरा – Aloe Vera for Sprains in Hindi
  • मोच का उपचार करें पत्‍ता गोभी से – Cabbage Treats for Sprains in Hindi
  • मोच ठीक करने के लिए अरंडी के तेल से मालिश – Castor Oil for Sprains in Hindi

आपके शरीर में आने वाली मोच को ठीक करने के बहुत से घरेलू उपाय हैं जिनका उपयोग कर आप अपने शरीर में मोच के कारण होने वाले दर्द और सूजन को कम कर सकते हैं। ये उपचार आपको बेहतर जीवन जीने में मदद करते हैं। आइऐ जानते हैं मोच (Sprain) को ठीक करने के घरेलू उपाय क्‍या हैं जिन्‍हें आप अपने घर में ही कर सकते हैं इसके लिए आपको कहीं बाहर जाने या डॉक्‍टर पर पैसे खर्च करने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

मोच को ठीक करने का घरेलू उपाय है बर्फ – Ice Home remedies for fixing sprains in Hindi

सूजन और दर्द वाले स्‍थान पर बर्फ लगाने से होने वाली तकलीफ को कम किया जा सकता है। बर्फ अस्थिबंधन के टूटने और उससे खून के स्राव को कम करके सूजन और दर्द को रोकता है। चोट लगने के बाद 48 से 72 घंटे के अंदर प्रभावित क्षेत्र पर बर्फ लगाना चाहिए।

  • इसके लिए आप एक कपड़े में बर्फ के कुछ तुकड़े लेंऔर 15-20 मिनिट के लिए मोच बाली जगह पर इसे लगाएं।इस क्रिया को 1-2 घंटे के बाद फिर से दोहराएं।
  • यदि आपको बर्फ आसानी से नहीं मिलती है तो आप सब्‍जीयों के फ्रोजेन पैकेज (frozen package) का उपयोग भी कर सकते हैं।

मोच खाए टखने के उपचार करें हल्दी – Turmeric for Ankle sprains in Hindi

एंट्री-इंफ्लामैट्री गुणों के कारण हल्‍दी मोच को ठीक करने का सबसे सरल, सस्‍ता और प्रभावकारी घरेलू उपचार है। हल्‍दी का प्रभाव त्वचा और ऊतको (Skin and tissues) पर बहुत ही कम पड़ाता है, लेकिन यह मोच के दर्द और सूजन को कम करने में मदद करता है। 2007 में अमेरिकी जर्नल ऑफ फिजियोलॉजी के शोधकर्ताओं ने एक रिपोर्ट जारी की जिसके अनुसार मोच और प्‍लांटर फासिआइटिस (plantar fasciitis) के उपचार के लिए हल्दी को बहुत ही प्रभावकारी बताया गया है।

  • गर्म पानी के साथ हल्‍दी पाउडर मिलाएं।अतिरिक्‍त लाभ पाने के लिए आप इसमें नींबू का रस भी मिला सकते हैं।
  • सूजन और दर्द (swollen and aching) वाली जगह पर इस मिश्रण को लगाएं और  10 घंटों के लिए छोड़ दें।
  • पैरों में आई मोच को ठीक करने के लिए आप इस उपचार को प्रतिदिन करें।

ऐसी जटिल बीमारीयों पर इसके प्रभावी प्रभाव के कारण हल्‍दी (Turmeric) एक बेहतर सहायक घरेलू उपचार है

पैर में मोच के उपचार के लिए जैतून का तेल – Olive Oil for sprains in Hindi

जैतून के तेल का उपयोग आप पैरों की मोच को ठीक करने के लिए घरेलू उपचार के रूप में कर सकते हैं।  जैतून तेल में माजूद कई आवश्‍यक यौगिक (essential compounds) पैरों में आई मोच के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं। जैतून का तेल मोच के कारण आने वाले दर्द और सूजन को कम करने में मदद करता है।

  • इसके लिए आप अंडे की जर्दी के साथ एक चम्‍मच जैतून का तेल मिलाएं।
  • दर्द वाले स्‍थान पर इस मिश्रण का प्रयोग करें।
  • इन क्षेत्रों को एक साफ तौलिया से ढ़क कर इसे दो दिनों के लिए छोड़ दें।
  • कुछ दिनों तक इस उपचार का पालन करें।

जैतून का तेल घरों में आसानी से प्राप्‍त होने वाली वस्‍तु है। जैतून का तेल कुछ अन्‍य प्रचलित समस्‍याओं का प्रभावी ढंग से इलाज कर सकता है।

मोच का घरेलू उपाय है सेंधा नमक – Epsom Salt for sprains in Hindi

शरीर के किसी भी हिस्से में मोच आने के दौरान कुछ दिनों तक केवल ठंडे उपचार ही करना चाहिए, क्‍योंकि गर्मी का उपयोग वास्‍तव में उपचार के प्रारंभिक चरणों के दौरान अतिरिक्‍त सूजन में योगदान दे सकता है। चोट या मोच आने के कुछ दिनों के बाद आप गर्म पानी में सेंधा नमक मिलाकर इससे स्‍नान करें या चोट वाले क्षेत्र को इस पानी से भिगों सकते हैं। सेंधा नमक मांसपेशियों के दर्द और संयोजी ऊतकों को शांत करने में मदद करता है। मोच से राहत पाने के लिए आप दिन में एक या दो बार इस मिश्रण का उपयोग कर सकते हैं।

मोच के लिए उपयोगी प्राकृतिक लेप – Natural poultices for sprains in Hindi

आपके रसोई सामग्री में विभिन्न प्रकार के प्राकृतिक एंटी-इंफ्लामैट्री तत्व होते हैं। यदि आप सूजन को कम करने के लिए पारंपरिक लेप का उपयोग करना चाहते हैं तो हल्दी, लहसुन, प्‍याज, केस्‍टर आयल या जैतून का तेल (castor oil or olive oil) लगाने की कोशिश करें। इनमें अन्‍य औषधीय सामग्री को मिलाकर धीरे-धीरे गरम किया जाता है और मोच बाले स्‍थान पर लगाया जा सकता है और कुछ घंटों के लिए इसमें एक पट्टी भी बांधी जा सकती है।

इसके साथ ही आप हल्दी और चुने से बने लेप का उपयोग मोच के कारण आई सुजन को कम करने के लिए किया जा सकता है।

यदि आप निश्चित नहीं कर पा रहे हैं कि इनमें से कौन सी सामग्री मोच का उपचार करने के लिए उपयुक्‍त है तो चिकित्‍सक (physician) से सलाह लें।

मोच का घरेलू उपचार करें लहसुन से – Moch Ka Gharelu Upchar Lehsun Se in Hindi

लहसुन के सबसे प्रभावी स्‍वास्‍थ्‍य लाभों में से एक यह है कि यह पैर की मोच के लिए शीर्ष घरेलू उपचारों में से एक बन गया है। लहसुन में बहुत अधिक पोषक तत्‍व पाए जाते हैं जो सूजन को कम करने और दर्द से राहत दिलाने में मदद करते हैं। लहसुन से मोच का उपचार करने के कई तरीके हैं।

  • एक कटोरे में लहसुन का 1 चम्‍मच रस लें।
  • इसमें 2-3 चम्‍मच नारियल का तेल मिलाएं।
  • इन दोनों के मिश्रण को दर्द वाले स्‍थान पर लगाएं और आधा घंटे के लिए छोड़ दें।
  • अब इन प्रभावित क्षेत्रों को साफ करने के लिए गर्म पानी (warm water) का प्रयोग करें।
  • जब तकआपको दर्द से राहत न मिले तब तक आप इस विधिको प्रतिदिन 3-5 बार दोहराएं।

लहसुन का उपयोग कर आप जोड़ों के दर्द और पाचन संबंधि समस्‍याओं (joints and digestive problems) का उपचार भी कर सकते हैं।

मोच के दर्द का इलाज प्‍याज से करें – Onion for sprains in Hindi

प्‍याज का उपयोग कर आप मोच के कारण होने वाले असहनीय दर्द को कम कर सकते हैं। प्‍याज में एंटी-इंफ्लामैट्री पोषक तत्‍व होते हैं जो शरीर की शक्ति को बढ़ाने में भी मदद करते हैं।

  • 1 प्‍याज को ठंडा करने के लिए फ्रिज में कुछ देर के लिए रखें।
  • फिर इसे बारीक तुकड़ों में काट (chopped into small pieces) लें और इसमें कुछ नमक मिलाएं।
  • इस मिश्रण को सूजन और दर्द नाक स्‍थान पर लगाएं और इन्‍हें पट्टी के साथ कवर करें।
  • इस मिश्रण को 8 घंटे के बाद साफ कर लें और जब तक आप बेहतर महसूस न करें तब तक इस प्रक्रिया को दोहराएं।

 

पैर में मोच से राहत दिलाए एलोवेरा – Aloe Vera for Sprains in Hindi

एलोवेरा को हर्बल दवाओं (herbal medicine) में उपयोग करने के लिए जाना जाता है। लेकिन हम में से कई लोगों को पता नहीं है कि यह पैरों की मोच को ठीक करने का सबसे अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है। इसका उपयोग खिलाड़ियों द्वारा किया जाता है जो अक्‍सर अभ्यास के दौरान चोटों (injuries) का सामना करते हैं।

एलोवेरा का सबसे महत्वपूर्ण लाभ दर्द से छुटकारा पाने और उपचार प्रक्रिया में तेजी (accelerate the healing process) लाने के लिए किया जाता है।

पैर की मोच का इलाज करने के लिए आपको ऐलोवेरा जेल (Aloe Vera gel) का उपयोग करना चाहिए। इसे आप खुजली वाली जगह पर भी लगा सकते हैं।

मोच का उपचार करें पत्‍ता गोभी से – Cabbage Treats for Sprains in Hindi

यदि आप सोच रहे हैं कि आपके पैर की मोच के उपचार (Treatment of sprain) के लिए क्‍या किया जाए तो इसके लिए आप गोभी का उपयोग कर सकते हैं। पत्‍ता गोभी में विटामिनो की विविधता पाई जाती है जिसके कारण यह घुटनों की मोच को ठीक करने का सबसे अच्‍छा घरेलू उपाय माना जाता है। पैरों की मोच के उपचार में पत्‍ता गोभी का उपयोग दर्द और सूजन (pain and swelling) को कम करने में मदद करता है।

  • एक ताजा गोभी (fresh cabbage) को लें और उसकी बाहरी पत्तियों को काट लें।
  • इन पत्तियों को हल्‍का गर्म करें और उन्‍हें सूजन या दर्द वाले स्‍थान पर लगाएं और कुछ देर के लिए छोड़ दें।
  • इस विधि का उपयोग प्रतिदिन करें।

मोच ठीक करने के लिए अरंडी के तेल से मालिश – Castor Oil for Sprains in Hindi

मोच के उपचार के लिए कुछ आवश्‍य‍क तेल (essential oil) बहुत उपयोगी साबित होते हैं। अंड़ी का तेल भी ऐसे ही आवश्‍यक तेलों में से एक है। अरंडी के तेल में रिसिनोलिक एसिड पाया जाता है जो मोच के उपचार में बहुत मददगार होता है।

  • सबसे पहले एक सूती कपड़े की सहायता से दर्द वाले स्‍थान पर अंडी का तेल (castor oil) लगाएं।
  • इसके बाद आधा घंटे तक इंतेजार करें, यह अरंडी का तेल आप के दर्द को कम करने में मदद करेगा।
  • फिर इस तेल को साफ करें।
  • तेल (Castor oil) को साफ करने के बाद आप उस स्‍थान पर मालिश करें।

जब तक आप सकारात्‍मक परिणाम नहीं पाते हैं तब तक इस विधि को दिन में दो-तीन बार तक दोहरा सकते हैं।

 

Shear this
View all

Most Popular Video

Most Popular Articles